मेरी आवाज मे आपका स्वागत है |दीजिए मेरी आवाज को अपनी आवाज |

Website templates

1 दिस॰ 2008

शहीदों के घर........?

शहीदों के घर..............?

शहीदों के घर कुत्ते नहीं जाते
क्योंकि वहां पावन भावनाओं की
गंगा बहती है
और बहती गंगा मे
अगर हाथ धोने जाएँ भी
तो उन्हें कोई घुसने नहीं देता

2 टिप्‍पणियां:

sareetha ने कहा…

आपकी कविताओ में राष्ट्र की चिंता साफ़ नज़र आती है । गीत - संगीत और उपभोग में लगे देशवासियों से इतर आपके शब्द हिम्मत बंधाते हैं कि भारत एक दिन फ़िर विश्व का सिरमौर होगा ।

manu ने कहा…

बहुत अच्छे से और नए सोच से लिखा है...ये दर्द....