मेरी आवाज मे आपका स्वागत है |दीजिए मेरी आवाज को अपनी आवाज |

Website templates

01/04/2010

मां - चन्द क्षणिकाएं

१.मां मैं जब भी मिलती हूं तुमसे
पहले से कमजोर ही दिखती हूं तुम्हें
यह तुम्हारी नज़र का धोखा है
या नज़र कमजोर है

२.मां तुम बातों ही बातों में
उगलवा लेना चाहती हो
मेरे सीने में दफ़न सच्चाई को
कितनी भोली और
मासूम हो तुम

३.दूर से आवाज़ सुन
जान लेती हो सबकुछ
तुम्हारा अंदाज़
कभी गलत नहीं होता
सत्य नापने वाली मशीन
हो क्या तुम ?

४. मैं रोती रही देर रात तक
सिराहने को तुम्हारी गोदि समझ
सो गई आराम से
पर आंखें तुम्हारी क्यों लाल हैं

५. कल रात मैनें खाना न खाया
किसी को भी न बताया
तुम क्यों उठ गई खाना छोडकर
भूख न होने का बहाना बनाकर

६. अपनें शब्दों से छू लेती हो
मेरे मन के घाव
इतनी दूरी से भी
कितनी आसानी से तुम
यह कला कहां से सीखी तुमने ?

७.कितने ही दर्द भाग जाते हैं
तुम्हारे स्पर्श भर से
कौन सा बाल्म लगाती हो
अपने स्नेहिल हाथों में ?

८.मेरे बालों में चलती
धीरे-धीरे तुम्हारी उंगलियां
हर गम भुला सुला देती हैं
क्या चुंबकीय आकर्षण है
उंगलियों में निद्रा का ?

९. बाज़ार में चलते हर चीज़ में
तुम्हारी सोच मुझ तक ही
सीमित हो जाती है
क्या तुम्हारी अपनी
कोई इच्छाएं नहीं हैं ?

१०.अपने कितने ही गम
छुपा लेती हो बडी सफ़ाई से
अपनी गहरी आंखों के रास्ते
दिल के किसी कोने में
इतनी सहनशीलता
कहां से आई तुममें ?

7 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

संजय भास्कर ने कहा…

हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

kshama ने कहा…

Aapne to aankhen nam kar deen..

Amitraghat ने कहा…

"मार्मिक-सम्वेदनशील क्षणिकाएं.....माँ के बारे में जितना लिखा जाए उतना ही कम है| किसी कवि की कविता में सम्पत्ति-बँटवारे में उसके हिस्से में माँ आई..तो मैं समझता हूँ कि वो कवि दुनिया का सबसे रईस कवि होगा.....बहुत बढ़िया लिखा."

संगीता पुरी ने कहा…

सारी रचनाएं एक से बढकर एक .. इनकी संवेदनशीलता का जबाब नहीं .. जैसी वास्‍तव में मांए होती हैं !

Nihar Khan ने कहा…

Bahut hi badhiya.Aapko aur aapki soch ko namaskar.Ham apne samvednaaon ke prati agar thore sahaj ho jaayen to abhiwakti ki prasangikta ko arth mil jaata hai.Aapko badhayee ki aapne apni manobhawna ko bina kisi pradooshan ke vyakt kiya.Dhanyavaad meri rachna ko sarahne ke liye bhi..

"KaushiK" ने कहा…

bahut achhe trah se maa ke ahsas avem mamta ko parstut kiya hai aapne......byan karne ke liye alfaj nahi hain...bas yahi niklta hai ...wah..wah