मेरी आवाज मे आपका स्वागत है |दीजिए मेरी आवाज को अपनी आवाज |

Website templates

24/03/2010

बिखर गया जो तार-तार अहसास कहां से लाऊं

बिखर गया जो तार-तार
अहसास कहां से लाऊं

तोड दिया खुद तुमने जो
विश्वास कहां से लाऊं
न दर्द रहा दिल में कोई
न रही कोई इसमें धडकन
पाहन से सीने में तो अब
न विचलित होता है ये मन
न आह रही इसमें कोई
तो प्यास कहां से लाऊं
तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं

नैनों से नीर नहीं बहता
न भाती इनको सुन्दरता
न भाव दिखें गहरे इनको
न रही है इनमें चंचलता
न इठलाते इतराते ये
तो पास कहां से आऊं
तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं

न भाव रहा न ही भंगिमा
न रही वो पहले सी गरिमा
न दर्द न अनुभव है कोमल
न आह किसी से पिघले दिल
अर्थहीन जग-जीवन तो
फ़िर आस कहां से लाऊं ( आस - उम्मीद )
तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं
तोड दिया खुद तुमनें जो
विश्वास कहां से लाऊं
विश्वास कहां से लाऊं

12 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

अर्थहीन जग-जीवन तो
फ़िर आस कहां से लाऊं
एहसास गहरे है
सुन्दर रचना

dipayan ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपुर्ण रचना । टूटे रिश्ते जुड़्ते है, मगर निशान दिखाई देते है। टूटा विश्वास भी जुड़ता है, मगर गांठे रह जाते है। अच्छी कविता ॥

विजयप्रकाश ने कहा…

आपकी इस भावभरी कविता में बहुत पीड़ा भरी है.

Jandunia ने कहा…

.आपकी रचना पसंद आई।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!

arvind ने कहा…

तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं
तोड दिया खुद तुमनें जो
विश्वास कहां से लाऊं
....बहुत सुन्दर रचना!

KAVITA RAWAT ने कहा…

तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं
तोड दिया खुद तुमनें जो
विश्वास कहां से लाऊं
विश्वास कहां से लाऊं
Ek baar vishwas toot jay to phir kahi n kahin kuch kasak rah hi jaati hai. Man kee peeda bayan karti aapki rachna bahut achhi lagi.
Bahut shubhkamnayne.

आशीष/ ASHISH ने कहा…

Tod diya jo tumne,
Wo ahsaas kahan se laaun!!?
Aaagya ho to Rahim ka ek doha aapki aawaaz mein mila deta hoon, praasangik hai....
Rahiman dhaaga prem ka,
Mat todo chatkaaye!
Jode se phir na jude,
JO jude gaanth pad jaaye!!!

kshama ने कहा…

बिखर गया जो तार-तार
अहसास कहां से लाऊं
तोड दिया खुद तुमने जो
विश्वास कहां से लाऊं
न दर्द रहा दिल में कोई
न रही कोई इसमें धडकन
पाहन से सीने में तो अब
न विचलित होता है ये मन
न आह रही इसमें कोई
तो प्यास कहां से लाऊं
तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं
Kya gazab likhtee hain aap! mai to nishabd ho gayee hun!

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपुर्ण रचना । टूटे रिश्ते जुड़्ते है, मगर निशान दिखाई देते है।

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन


SANJAY KUMAR
HARYANA
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

"KaushiK" ने कहा…

तुम्हीं बताओ पहला वो
अहसास कहां से लाऊं
तोड दिया खुद तुमनें जो
विश्वास कहां से लाऊं

hal e dil ko khubsurati se byan kiya hai...savedanshil rachna hai...bahut khub