मेरी आवाज मे आपका स्वागत है |दीजिए मेरी आवाज को अपनी आवाज |

Website templates

28 जुल॰ 2020

विदाई

पुत्री की बस एक ही बार , विदाई नहीं होती |
माँ-बाप के होते वो कभी , पराई नहीं होती |
हर बार वही ममता , वही तो भाव आता है ,
पुत्री का अपने घर से , कैसा गहरा नाता है ?
हँसती है खिलखिला के , जब खुशियाँ महकती हैं |
यों लगे बगिया में ज्यों , चिड़ियाँ चहकती हैं |
परियों सी लाडली वो , पापा की दुलारी है |
उसकी हँसी में बस गई , कायानात सारी है |
कैसे पराई एक ही , दिन में हो जाती है ?
बस यही इक बात , मन ही मन रूलाती है |
ये तो शिष्टाचार है , और दुनियादारी है ,
वर्ना पुत्री घर पिता के , किसपे भारी है ?
जब भी घर से जाए , कुछ आँखें बरसती हैं |
पुत्री के बिन पापा की , आँखें तरसती हैं |
फ़र्क बस इतना कि , वो रस्में नहीं होतीं ,
सात फेरों वाली फिर , कस्में नहीं होतीं |
वर्ना ब्याह के बेटी , जब-जब घर पे आती है |
माता-पिता की आँखों मे , फिर खुशियाँ लाती है |
हर बार होए पुत्री की बस एक ही बार , विदाई नहीं होती |
माँ-बाप के होते वो कभी , पराई नहीं होती |
हर बार वही ममता , वही तो भाव आता है ,
पुत्री का अपने घर से , कैसा गहरा नाता है ?
हँसती है खिलखिला के , जब खुशियाँ महकती हैं |
यों लगे बगिया में ज्यों , चिड़ियाँ चहकती हैं |
परियों सी लाडली वो , पापा की दुलारी है |
उसकी हँसी में बस गई , कायानात सारी है |
कैसे पराई एक ही , दिन में हो जाती है ?
बस यही इक बात , मन ही मन रूलाती है |
ये तो शिष्टाचार है , और दुनियादारी है ,
वर्ना पुत्री घर पिता के , किसपे भारी है ?
जब भी घर से जाए , कुछ आँखें बरसती हैं |
पुत्री के बिन पापा की , आँखें तरसती हैं |
फ़र्क बस इतना कि , वो रस्में नहीं होतीं ,
सात फेरों वाली फिर , कस्में नहीं होतीं |
वर्ना ब्याह के बेटी , जब-जब घर पे आती है |
माता-पिता की आँखों मे , फिर खुशियाँ लाती है |
हर बार होए विदाई , जब बेटी घर पे आती है |
 , जब बेटी घर पे आती है |

1 टिप्पणी:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सुन्दर और मार्मिक रचना।