मेरी आवाज मे आपका स्वागत है |दीजिए मेरी आवाज को अपनी आवाज |

Website templates

13/02/2014

ANJAAN AATMA

 AlÉeÉÉlÉ AÉiqÉÉ
lÉ eÉÉlÉå MÑüSUiÉ eÉÏuÉlÉ qÉåÇ MæüxÉå-MæüxÉå AlÉÑpÉuÉ MüUÉiÉÏ Wæû ? MÑüNû AlÉWûÉålÉÏ bWûOûlÉÉLÆ WûqÉÉUå ÌSsÉ-ÌSqÉÉaÉ mÉU LåxÉÉ AxÉU NûÉåQû eÉÉiÉÏ WæûÇ , ÎeÉlWåûÇ pÉÔsÉ mÉÉlÉÉ xÉÇpÉuÉ WûÏ lÉWûÏÇ | AÉeÉ qÉæÇ oÉWÒûiÉ mÉUåvÉÉlÉ WÕûÆ , CiÉlÉÏ ÌMü qÉæÇ ZÉÑS Måü WûÏ uÉvÉ qÉåÇ lÉWûÏÇ WÕûÆ | oÉxÉ ÌoÉlÉÉ ÌMüxÉÏ MüsmÉlÉÉ Måü rÉÉ MüWûÉlÉÏ aÉRåû , uÉWû oÉiÉÉMüU AmÉlÉå qÉlÉ MüÉ oÉÉåfÉ WûsÉMüÉ MüUlÉÉ cÉÉWûiÉÏ WÕûÆ , eÉÉå ÌmÉNûsÉå cÉÉU-mÉÉÆcÉ bÉhOûÉåÇ xÉå qÉÑfÉå AlSU WûÏ AlSU fÉMüfÉÉåU UWûÉ Wæû | qÉÑfÉå AmÉlÉÏ WûÏ AÉÆZÉÉåÇ mÉU ÌuɵÉÉxÉ lÉWûÏÇ WûÉå UWûÉ
AÉeÉ xÉÑoÉWû qÉæÇ bÉU xÉå< 7:55 mÉU ÌlÉMüsÉÏ | UÉåeÉÉlÉÉ Måü xÉqÉrÉ xÉå mÉÉÆcÉ ÍqÉlÉOû mÉWûsÉå | lÉ eÉÉlÉå AÉeÉ qÉåUÉ MüÉqÉ mÉÉÆcÉ ÍqÉlÉiÉ mÉWûsÉå MæüxÉå ÌlÉmÉOû aÉrÉÉ | UÉåeÉÉlÉÉ qÉæÇ WûÉÆÄniÉå-WûÉÆÄniÉå AÉæU pÉÉaÉiÉå-pÉÉaÉiÉå eÉæxÉå-iÉæxÉå qÉÑÎvMüsÉ xÉå AÉPû oÉeÉå bÉU xÉå ÌlÉMüsÉiÉÏ WÕûÆ | oÉåOåû MüÉå xMÔüsÉ NûÉåQèiÉÏ WÒûD xÉÏkÉÉ AmÉlÉå MüÉqÉ MüÉå cÉsÉÏ eÉÉiÉÏ WÕûÆ AÉæU mÉÔUå xÉqÉrÉ mÉU 8:30 mÉWÒûÆcÉ WûÏ eÉÉiÉÏ WÕûÆ | qÉåUå eÉÉlÉå Måü qÉÉaÉï qÉåÇ LMü UåsÉuÉå ÄTüÉOûMü mÉQèiÉÉ Wæû , eÉWûÉÇ xÉå WûU UÉåeÉ 8:25 MüÉå OíåûlÉ ÌlÉMüsÉiÉÏ Wæû | rÉWû WûU UÉåeÉ MüÉ MüÉqÉ Wæû AÉæU WûqÉåÇ ÄTüÉOûMü oÉlS WûÉålÉå Måü MüÉUhÉ mÉUåvÉÉlÉÏ pÉÏ EPûÉlÉå mÉQèiÉÏ Wæû YrÉÉåÇÌMü xÉpÉÏ MüÉå AmÉlÉå MüÉqÉ mÉU eÉÉlÉå MüÐ CiÉlÉÏ eÉsSÏ UWûiÉÏ Wæû ÌMü WûqÉ ÌoÉlÉÉ SÕxÉUÉåÇ MüÐ mÉUuÉÉWû ÌMüL pÉÉaÉiÉå WæûÇ |
qÉÑfÉå oÉWÒûiÉ MüqÉ WûÏ oÉlS ÄTüÉOûMü MüÉ xÉÉqÉlÉÉ MüUlÉÉ mÉQûÉ Wæû , YrÉÉåÇÌMü qÉæÇ AMüxÉU OíåûlÉ Måü ÌlÉMüsÉ eÉÉlÉå Måü oÉÉS sÉaÉpÉaÉ 8:30 mÉWÒûÆcÉiÉÏ WÕûÆ AÉæU iÉoÉ ÄTüÉOûMü ZÉÑsÉÉ ÍqÉsÉiÉÉ Wæû |
AÉeÉ lÉ eÉÉlÉå MæüxÉå qÉæÇ eÉsSÏ ÌlÉMüsÉÏ AÉæU eÉoÉ ÄTüÉOûMü mÉU mÉWÒûÆcÉÏ iÉÉå ÄTüÉOûMü oÉlS ÍqÉsÉÉ AÉæU cÉÔÆÌMü qÉæ AmÉlÉå xMÔüOûU mÉU eÉÉiÉÏ WÕûÆ iÉÉå ÄTüÉOûMü Måü ÌoÉsÉMÑüsÉ xÉqÉÏmÉ eÉÉMüU ZÉQåû WûÉålÉå MüÐ eÉaÉWû ÍqÉsÉ eÉÉiÉÏ Wæû | aÉÉQûÏ AÉlÉå qÉåÇ ApÉÏ SÉå-iÉÏlÉ ÍqÉlÉOû oÉÉMüÐ jÉå AÉæU xÉpÉÏ MüÐ ÌlÉaÉÉWåûÇ oÉlS ÄTüÉOûMü mÉU sÉaÉÏ jÉÏÇ | AcÉÉlÉMü aÉÉQûÏ MüÐ AÉuÉÉeÉ xÉÑlÉÉD SÏ AÉæU SÕxÉUÏ iÉUÄTü xÉå ÄTüÉOûMü Måü ZÉqpÉå Måüå lÉÏcÉå xÉå ÌlÉMüsÉ MüU LMü 55-60 uÉwÉÏïrÉ AÉæUiÉ UåsÉuÉå OíæûMü Måü mÉÉxÉ AÉMüU aÉÉQûÏ Måü xÉÉqÉlÉå xÉå WûÏ mÉÉU MüUlÉå MüÉ mÉërÉÉxÉ MüUlÉå sÉaÉÏ | ExÉå SåZÉMüU pÉÉUÏ pÉÏQû qÉåÇ WûsÉcÉsÉ qÉcÉ aÉD AÉæU ExÉå mÉÏNåû eÉÉlÉå Måü ÍsÉL MüWûiÉå WÒûL sÉaÉpÉaÉ xÉpÉÏ SåZÉlÉå uÉÉsÉå ÍcÉssÉÉ EPåû | ElÉqÉåÇ xÉå LMü qÉæÇ pÉÏ jÉÏ | aÉÉQûÏ qÉÑÎvMüsÉ xÉå SxÉ ÄTÑüOû MüÐ SÕUÏ mÉU WûÉåaÉÏ AÉæU xÉpÉÏ SåZÉlÉå uÉÉsÉå MåüuÉsÉ ÍcÉssÉÉ WûÏ xÉMüiÉå jÉå | lÉ eÉÉlÉå LåxÉÉ YrÉÉ jÉÉ ÌMü ExÉå ÌMüxÉÏ MüÐ pÉÏ AÉuÉÉÄeÉ xÉÑlÉÉD lÉ SÏ | AÉæU aÉÉQûÏ MüÐ iÉåÄeÉ UÄniÉÉU Måü xÉÉqÉlÉå MåüuÉsÉ MÑüNû WûÏ xÉæMåühQ< qÉåÇ ExÉMåü vÉUÏU Måü OÒûMüQåû-OÒûMüQåû ÌoÉZÉU aÉL | lÉ eÉÉlÉå YrÉÉåÇ qÉåUÏ cÉÏZÉ ÌlÉMüsÉ aÉD AÉæU mÉiÉÉ lÉWûÏÇ qÉæÇ YrÉÉåÇ MüÉÆmÉ UWûÏ jÉÏ | qÉæÇ AmÉlÉå AÉmÉ MüÉå pÉÏ xÉÇpÉÉsÉ lÉWûÏÇ mÉÉ UWûÏ jÉÏ | MåüuÉsÉ CiÉlÉÉ WûÏ lÉWûÏÇ aÉÉQûÏ Måü ÌlÉMüsÉiÉå AÉæU ÄTüÉOûMü Måü ZÉsÉlÉå qÉåÇ erÉÉSÉ xÉå erÉÉSÉ LMü rÉÉ SÉå ÍqÉlÉOû MüÉ xÉqÉrÉ sÉaÉÉ WûÉåaÉÉ AÉæU qÉælÉåÇ SåZÉÉ ExÉ AÉæUiÉ Måü vÉUÏU MüÉ LMü pÉÉaÉ LMü MüÉæL MüÉ pÉÉåeÉlÉ pÉÏ oÉlÉ cÉÑMüÉ jÉÉ |

MüÉvÉ ExÉlÉåÇ WûqÉÉUÏ AÉuÉÉÄeÉ xÉÑlÉ sÉÏ WûÉåiÉÏ AÉæU mÉÏNåû cÉsÉÏ aÉD WûÉåiÉÏ | iÉoÉ xÉå sÉåMüU AoÉ iÉMü qÉæÇ ÌMüiÉlÉÏ AxÉWûeÉ AÉæU mÉUåvÉÉlÉ WÕûÆ , uÉWû vÉoSÉåÇ qÉåÇ orÉÉlÉ lÉWûÏÇ MüU xÉMüiÉÏ | ZÉæU , CiÉlÉå pÉÉUÏ qÉlÉ xÉå ExÉ AlÉeÉÉlÉÏ AÉiqÉÉ MüÉå AsÉÌuÉSÉ MüWûÉ AÉæU qÉæÇ MüÉqÉ qÉåÇ sÉaÉ aÉD | DµÉU ExÉMüÐ AÉiqÉÉ MüÉå vÉÉÎliÉ mÉëSÉlÉ MüUå AÉæU qÉæÇ ExÉå pÉÑsÉÉ mÉÉFÆ rÉWûÏ mÉëÉjÉïlÉÉ Wæû | 

16/08/2013

कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे (poem)


 

कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे
कहने लगी , कुछ प्रश्नों के मुझको जवाब दे
मैंने कहा माँ तुम तो स्वयं ज्ञान की दाता
कौन सा सवाल , जो तुमको भी न आता ?
मैं अदना सी अनजान सी , कुछ भी तो न जानूं
फिर भी हैं क्या सवाल ? एक बार तो सुनूं

पहला सवाल -फ़ैली क्यों भारत में भुखमरी?
आज़ाद भारत में भी क्यों फ़ैली है बेकारी ?
क्यों सोन चिडिया भूल रही अपने ही रास्ते ?
मर रहा क्यों आदमी पैसे के वास्ते ?
लालच में अंधा हो के क्यों ईमान वार दे ?
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे |
दूसरा सवाल- ज्ञान खो गया किधर ?
भ्रष्टाचार दीखता क्यों मैं देखती जिधर ?
गलियों में पनपे बाबा , कहते खुद को जग-गुरु
भारत में हो गयी ये कैसी सभ्यता शुरू ?
कहाँ गयी वो माँ जो अच्छे संस्कार दे |
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे |
तीसरा सवाल- जल रही क्यों बेटियाँ ?
रानी बनाकर राज कर रही क्यों चेटियाँ ?
क्यों माँ लगाती मोल स्व बेटे का इस तरह
व्यापारी बेचता हो कुछ सामान जिस तरह ?
क्यों बेटियों को जन्म से पहले ही मार दे ?
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे
चौथा सवाल – बोलो ये है जाति-पाति क्या ?
खो गयी क्यों आज सारी कोमलता दया ?
क्यों धर्म के नाम पर भगवान को बांटा ?
मानवता के नाम पर क्यों चुभ रहा काँटा ?
शर्मो-हया के गहने नारी क्यों उतार दे ?
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे
पाँचवें सवाल ने मुझको हिला दिया |
कहते हुए उसनें तो माँ को भी रुला दिया |
कहती समझ न पाई मैं -नेता हैं चीज क्या ?
धब्बा राजनीति पे , जिसनें लगा दिया |
कहते स्वयं को सेवक . पर कुर्सी के लालची
साम , दाम,दंड , भेद की न है कमी |
कुर्सी बिना न रह सकें , ऐसा भी मोह क्या ?
क्यों दीन दुखियों पर इन्हें आती नहीं दया ?
इनकी चले तो देश का सर्वस्व वार दें |
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे
सवाल है छटा , है लगता मुझको अटपटा |
खो गयी कहाँ -हरी सावन की थी घटा ?
सुन्दरता भी कुदरत की क्यों नष्ट हो रही ?
साँस लेने को भी वायु शुद्ध न रही |
मानव भू पे गन्दगी को ,क्यों पसार दे ?
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे
ध्यान से सुनो -ये मेरा प्रश्न सातवाँ |
मैंने कहा कर जोड़ -माँ मुझको करो क्षमा |
अब कहाँ हनुमान औ श्रीराम है बसा ,
इसीलिए सर उठा रही , धरती पे अब सुरसा
दे दो हमें वो शक्ति , जो सब-कुछ संवार दे |
कल रात मेरे पास आ गयी माँ शारदे
कहने लगी , कुछ प्रश्नों के मुझको जवाब दे

24/10/2012

राम न अब धरती पर आना.....

राम अभी फिर से न आना
न आदर्शवाद दिखलाना
अब है हर जन-जन में रावण
न कोई मन राम के अर्पण
धोखेबाज़ के घर में उजाला
और सच्चाई का मुंह काला
न कोई सीता न ही लखन
सर्वोत्तम सत्य बस धन
कुर्सी का व्यापार चला है
भ्रष्टाचार में सबका भला है
देखो सब जुबां न खोलो
मुंह से राम-राम ही बोलो
पर रावण को मन से मानो
करो वही जिसमें हित जानो
आदर्शों के  पहन नकाब
ढककर चेहरे  अपने  जनाब
दश नहीं शतकों सर वाले
सुन्दर पर अन्दर से काले
न चाहे अब कोई मुक्ति
पास हो जो कुर्सी की शक्ति
क्या करनी है राम की भक्ति
न चाहिए भावों की तृप्ति
अब न यहाँ कोई हनुमान
गली-गली में बसे भगवान
इससे ज्यादा अब क्या बोलें
और कितना छोटा मुंह खोलें
ख़त्म हो चुके हैं अब वन
कहाँ बिताओगे तुम जीवन
नहीं हैं चित्रकूट से पर्वत
हर चीज़ हुई प्रदूषित
अब हैं सब मतलब के साथी
क्या बेटा क्या पोता नाती
अब जो तुम धरती पर आना
सर्व-प्रथम खुद को समझाना
स्व हित सम कोई हित न दूजा
करनी है लक्ष्मी की पूजा
स्वयम जियो , सबको जीने दो
विष को अमृत समझ पीने दो
पर अपनी कुर्सी न छोड़ो
स्वार्थ हित हर नाता तोड़ो
अब न बाप न नातेदारी
लालच के अब सब व्यापारी
तुम भी अब खुद को समझा लो
रावण के संग हाथ मिला लो
तभी यहाँ रह पाओगे
वरना
गुमनामी में खो जाओगे

 

13/09/2012

AUR VAH FIR NA KHILI..............


AÉæU uÉWû ÌÄTüU lÉ ÎZÉsÉÏ …………..

UÉåeÉÉlÉÉ xÉÑoÉWû eÉsÉSÏ-eÉsÉSÏ qÉåÇ eÉÉlÉÉ , eÉæxÉå iÉæxÉå mÉÉÌMïüÇaÉ qÉåÇ eÉaÉWû RÕûÇRûlÉÉ , xMÔüOûU mÉÉMïü MüUlÉÉ AÉæU bÉQûÏ MüÐ iÉUÄTü SåZÉiÉå-SåZÉiÉå pÉÉaÉiÉå-pÉÉaÉiÉå fÉOû xÉå AÉÌÄTüxÉ mÉWÒûÇcÉ eÉÉlÉÉ , UÉxiÉå qÉåÇ MüÉælÉ Wæû ? YrÉÉ Wæû ? ÌMüxÉlÉåÇ ÌuÉvÉ ÌMürÉÉ ?..... MÑüNû pÉÏ krÉÉlÉ lÉ UWûlÉÉ WûqÉÉUÉ ÌlÉirÉ MüqÉï oÉlÉ cÉÑMüÉ Wæû | sÉåÌMülÉ MÑüNû ÌSlÉ mÉÔuÉï eÉæxÉå WûÏ qÉælÉå AmÉlÉÉ xMÔüOûU mÉÉMïü ÌMürÉÉ iÉÉå AcÉÉlÉMü MüSqÉ ÌPûPûMü aÉL | SåUÏ MüÐ mÉëuÉÉWû lÉ MüUiÉå WÒûL qÉæÇ ExÉ AÉåU oÉRûlÉå sÉaÉÏ AÉæU LåxÉÏ xÉÑlSUiÉÉ AÉæU iÉÉÄeÉaÉÏ SåZÉMüU sÉaÉÉ qÉÑfÉå ÌSlÉpÉU MüÐ ZÉÑUÉMü ÍqÉsÉ aÉD WûÉå | qÉåUÏ AÉÇZÉÉåÇ qÉåÇ uÉÉå qÉÉxÉÔÍqÉrÉiÉ , MüÉåqÉsÉiÉÉ AÉæU ZÉÑvÉÏ pÉÏ fÉÔqÉlÉå sÉaÉÏ ÎeÉxÉå qÉælÉå qÉWûxÉÔxÉ ÌMürÉÉ | uÉÉxiÉuÉ qÉåÇ uÉWûÉÇ LMü lÉÉsÉÏ qÉåÇ MüÐcÉQû qÉåÇ ÎZÉsÉå WÒûL SÉå aÉÑsÉÉoÉÏ UÇaÉ Måü MüqÉsÉ AÉæU MüqÉÍsÉlÉÏ Måü ÄTÔüsÉ jÉå eÉÉå qÉÉlÉÉå LMü SÕxÉUå MüÉå SåZÉMüU MüÐcÉQû MüÐ mÉëuÉÉWû lÉ MüUiÉå WÒûL ÎZÉsÉÎZÉsÉÉ MüU WûÇxÉ UWåû WûÉåÇ AÉæU AmÉlÉÏ WûÇxÉÏ xÉå cÉÉUÉåÇ AÉåU MüÉ uÉÉiÉÉuÉUhÉ aÉÑÇeÉÉrÉqÉÉlÉ MüU UWåû WûÉåÇ | MüqÉÍsÉlÉÏ aÉWûUå aÉÑsÉÉoÉÏ AÉæU MüqÉsÉ WûsMåü aÉÑsÉÉoÉÏ UÇaÉ xÉå MüÐcÉQû MüÉå pÉÏ vÉÉåpÉÉrÉqÉÉlÉ MüU UWåû jÉå | MüqÉÍsÉlÉÏ MüÐ ÌlÉSìÉ xÉå  AÉæU MüqÉsÉ MüÐ ÌlÉSìÉ xÉå eÉaÉlÉå Måü EmÉUÉÇiÉ AsÉxÉÉD hui  AÉÇZÉåÇ see sundartaa ÌMüxÉÏ MüÉå pÉÏ AmÉlÉÏ AÉåU AÉMüÌwÉïiÉ MüUlÉå qÉåÇ saksham jÉÏÇ | SåZÉMüU sÉaÉÉ eÉæxÉå MüÉåD mÉëåqÉÏ rÉÑaÉsÉ mÉÔUÏ SÒÌlÉrÉÉ xÉå oÉåZÉoÉU AxÉÏqÉ mÉëåqÉ MüÐ qÉxiÉÏ qÉåÇ AÉÍsÉÇaÉlÉ oÉ® WûÉålÉå MüÉå betaab WûÉåÇ | qÉÑfÉxÉå UWûÉ lÉ aÉrÉÉ , qÉlÉ ÌMürÉÉ LMü ÄTÔüsÉ qÉæÇ AmÉlÉå mÉÉxÉ UZÉ sÉÔÇ | qÉæÇ eÉæxÉå WûÏ mÉÉxÉ oÉæPûÏ iÉÉå qÉåUå WûÉjÉ AmÉlÉå AÉmÉ ÂMü aÉL AÉæU AÉiqÉÉ ÍkÉYMüÉUlÉå sÉaÉÏ , sÉaÉÉ eÉæxÉå qÉæÇ ÌMüxÉÏ mÉëåqÉÏ  yugal  MüÉå AsÉaÉ MüUlÉå eÉÉ UWûÏ WÕûÇ | ZÉÑS MüÉå LåxÉÏ pÉÉuÉlÉÉ Måü ÍsÉL ÍkÉYMüÉUÉ AÉæU ElÉ SÉålÉÉåÇ MüÉå mÉÌuÉ§É mÉëåqÉ Måü fÉÔsÉå qÉåÇ fÉÔsÉiÉå NûÉåQû uÉWûÉÇ xÉå cÉsÉÏ aÉD | ÌSlÉ pÉÉU MüÉqÉ MüÐ urÉxiÉiÉÉ pÉÏ qÉÑfÉå ExÉ xÉÉæÇSrÉï MüÉ AWûxÉÉxÉ lÉWûÏÇ pÉÑsÉÉ mÉÉD | lÉ eÉÉlÉå YrÉÉåÇ iÉÏlÉ oÉeÉiÉå WûÏ eÉsÉSÏ-eÉsÉSÏ uÉWûÉÇ mÉWÒûÇcÉ ÌÄTüU xÉå ExÉ mÉëåqÉÏ rÉÑaÉsÉ MüÉå lÉÄeÉSÏMü xÉå ÌlÉWûÉUlÉå MüÐ mÉëoÉsÉ CcNûÉ qÉÑfÉå ZÉÏÇcÉ sÉå aÉD | uÉWûÉÇ mÉWÒûÇcÉiÉå WûÏ qÉælÉåÇ eÉÉå lÉÄeÉÉUÉ qÉWûxÉÔxÉ ÌMürÉÉ uÉWû xÉÑoÉWû Måü lÉÄeÉÉUå xÉå pÉÏ erÉÉSÉ UÉåcÉMü AÉæU pÉuÉÑMü jÉÉ |

       कमलिनी गुलाबी मुस्कान बिखेरती हुई मीठी सी निद्रा मे बिफिक्र सो रही थी जबकि कमाल उसे निहारते हुए मानो

उसकी रक्षा के लिए खड़ा हुआ भाव विभोर हो रहा हो | इतने असीम प्यार में डूबा प्रेमी युगल वास्तव मे सच्चे प्यार

की दास्तां ब्यान कर रहा था | मेरी इच्छा हुई की रात को आकर उस अनुपम सुंदरता को देखूँ जब प्रेमी मीठे सपनों में खोया हो और उसकी प्रेमिका पूरी दुनिया के सो जाने पर उसे देखकर निहाल हो रही हो और अपने भाग्य पर मन ही मन ईश्वर को धन्यवाद दे रही हो और उस घड़ी का बेसब्री से इंतजार कर रही हो जब वह अपने प्रियतम की आँखो मे आँखें डालकर अपने प्यार का इज़हार कर सके | परंतु समयाभाव और व्यस्तता के चलते मेरे लए ऐसा संभव था लेकिन अगली सुबह मैं घर से पाँच मिनट जलदी निकली ताकि मैं फिर से उस कुदरती नज़ारे का आनंद ले सकूँ  और शाम को भी ऐसा ही हुआ | यह क्र्म कोई हफ़्ता भर चला | मैं कुदरत के नज़ारे को देखकर बहुत प्रसन्न थी | मुझे उस मासूमियत में दैवी दर्शन होने जैसा अनुभव हुआ , जिसमें पवित्रता के अलावा और कुछ नहीं था |

             परंतु कहते हैं प्यार की उम्र बहुत छोटी होती है | एक हफ़्ता कैसे बीत गया , पता ही चला | कल फिर मैं जब शाम को उसे देखने की उत्सुकता से वहाँ पहुँची तो मेरी आँखों से अनायास ही आँसू बहने लगे | लगा जैसे कोई अपना बेहद करीबी मुझसे सदा के लए बिछुड गया हो | कमल अब वहाँ पर था और कमलिनी अधमरी अवस्थां में शोक में डूबी हुई मानो  आँसू बहा रही हो | मैनें भारी मन से वहाँ से विदा ली और इस आशा से कि कल कमलिनी फिर से वैसी ही खिली होगी जैसी मैं उसे हर सुबह देखती हूँ | आज मैं उसी आशा से वहाँ पहुँची तो वहाँ पर केवल सूनापन ही देखा | आज कमलिनी खिली | शायद वह भी अपने प्रेमी के पीछे सदा के लिए किसी और दुनिया में पहुच चुकी है जहाँ से कभी कोई वापिस नहीं आता.............|               

11/05/2012

छुअन


छुअन
माँ बार-बार देखती थी छूकर
जब भी कभी जरा सा गर्म होता
मेरा माथा
चिढ जाती थी मै माँ की
ऐसी हरकत पर
गुस्सा भी करती
पर माँ
टिकती ही न थी
बार-बार छूने से
गुस्से और चिड-चिडाहट की
प्रवाह न करती
तब तक न हटती
जब तक मेरे मस्तक को
ठण्डक न पहुँच जाती
न जाने बार-बार छुअन से
क्या तस्सली मिलती उसे
उस छुअन का तब
कोई मूल्य न था
और
उस अमूल्य छुअन को
महसूस करती हूँ अब
जब तन क्या मन भी जलता है
मिलता है केवल
व्यवहारिक शब्दोँ का सम्बल
बहुत कुछ दिलो-दिमाग को
छू जाता है
महसूस होती है अब भी
कोई छुअन
जो देती है केवल चुभन
और भर जाती है
अन्तर्मन तक टीस
छेड जाती है आत्मा के सब तार
और वो कम्पन
जला जाता है सब कुछ
बिजली के झटके की भान्ति
अन्दर ही अन्दर
किसी को बाहर
खबर तक नही होती
तभी माँ की वो बचपन की छुअन
पहुँचा जाती है ठण्डक
और करवा देती है
जिम्मेदारियोँ का अहसास
कि आज जरूरत है किसी को
मेरी छुअन की

******************************************************

04/05/2011

लादेन तुम…………?




लादेन

अगर तुम ज़िंदा होते

तो आज आतंकवाद के आंसू

यूं ही जार-जार न रोते




न आतंकी

तुम्हारी समाधि का

सिन्धु की अपार गहराई में

डुबकी लगाकर ठिकाना ढूँढते



तुम्हारे कितने

दत्तक पुत्र तरस गए हैं

तुम्हारी एक ही झलक पाने को

क्या मुंह दिखाएँ जमाने को……?



vo दत्तक पुत्र

जिनको तुमने पाला पोसा

आतंकवाद की छाँव में

बाँध दी बेड़ियाँ जेहाद की पाँव में



जिनको तुमनें

औलाद सम दिया संरक्षण

बदले और नफ़रत की आग में

फूट पड़े उनके अश्रु तेरे विराग में



लादेन

तुम्हीं तो थे उनका सहारा

क्यों कर गए तुम उनसे किनारा

भरी दुनिया में क्यों बनाया उन्हें बेचारा



तुमनें अपनी

आख़िरी झलक तक न दिखाई

रात के स्याह अँधेरे में गुपचुप

ले ली क्यों अंतिम विदाई ….?



तुम्हारी

एक झलक को

पूरी दुनिया तरसती थी

तुम्हारी जान इतनी तो न सस्ती थी



तुमने जीवन भर

अनगिनत जुल्म किए

जाते-जाते एक भला कर जाते

मरना ही था तो

किसी को अरबपति बना

आराम से मर जाते



हाय रे लादेन

तुम क्यों न आए मेरे सामने ?

देखे थे मैनें भी कितने सपने

कि कभी हमारी मुलाक़ात हो जाएगी

फिर मुझ पर इनामों की बरसात हो जाएगी

मेरा दुनिया में नाम हो जाएगा

तुम्हारा तो कल्याण हो ही जाएगा


लादेन तुम सच में मुझे मिल जाते

तो तुम्हारा क्या बिगड़ जाता ?

हाँ मेरा अवश्य भला हो जाता

यह मेरा ही नहीं

जन-जन का ख़्वाब था

पर न जाने क्यों

सबका ही भाग्य खराब था

किसी की भी किस्मत नें साथ न निभाया

जब एक सुबह अचानक

तुम्हारी मौत का संदेशा आया

हम अपनी किस्मत को

कोसते ही रह गए

और तुम समंदर में समा गए

क्यों दे गए तुम धोखा ?

अपने चाहने वालो को

क्या करें तुम्हारे अपने

गोली बारूद के निवालों को ?

काश ! तुम ज़िंदा काबू जाते

तो शायद नफ़रत की आग

कभी न कभी तो बुझ जाती

तुम्हें देख तुम्हारे शिष्यों को

शायद कोइ शिक्षा मिल जाती

तुम्हारे साथ

न जाने कितने ही राज़

दफ़न हो गए तुम्हारे सीने में

जिनकी बदबू फ़ैली थी

आजीवन बहे तुम्हारे पसीने में

तुम ज़िंदा होते

तो शायद राज़ राज़ न रहते

तुम्हारी असमय म्रित्यु पर

स्वाल पे स्वाल न उठते

ऐसे स्वाल जिन पर

स्वाल तो उठते हैं

पर कोई जवाब नहीं आता

क्या था

तुम्हारा और नफ़रत का नाता

जिसकी आग में तुम

आजीवन जलते रहे

दूसरों को मारा

स्व्यं तिल तिल मरते रहे

काश ! तुम कभी उस आग से

बाहर निकल आते

तो दुनिया को खूबसूरत पाते

प्यार से रहते प्यार सिखाते

तुम मर नहीं अमर हो जाते

काश! लादेन तुम जिन्दा पकडे जाते…..

…………………………..

…………………………..?

07/04/2011

कौन कहता है जानवर कम हुए ..प्लीज़ सुझाव दें




जानवर -कुदरत का अनमोल रत्न और ऐसी सृजना जो किसी मानव के बस की बात ही नहीं
न जाने स्वार्थवश हम इन बेजुबान निर्दोष जानवरों को ही क्यों पशु की श्रेणी में रखते हैं जबकि ये तो किसी न किसी तरह मानव के काम ही आते हैं और तब तक हिंसक नहीं होते जब तक उन्हें हिंसक बनाया न जाए
ये कभी अपनी मर्यादाओं का हनन नहीं करते और सबसे बड़ी बात जो जन्मजात होते हैं वही भीतर/बाहर से होते भी हैं कोइ झूठा मुल्लमा ओढ़ कर नहीं चलते
दिखावे की दुनिया से बिलकुल अलग कितना स्वच्छ और सीधा-सादा जीवन जीते हैं ये जीव
शायद धरती की शोभा बढाने हेतु ही कुदरत नें इन जीवों का निर्माण किया होगा
कुदरत की बनाई तो हर चीज़ अनूठी ही है और हर संरचना के पीछे क्या गहरा राज़ छुपा है वह समझना तो सचमुच अंडा या मुर्गी पहले समझने वाले बात की तरह दुर्लभ है लेकिन मानव निजाद जिस प्रजाति का विकास तेज़ी से हो रहा है वह तो लगता है कुदरत के भी हर नियम क़ानून को पीछे छोड़ देगा और कभी मानव का उस ईश्वर रूपी अदृश्य शक्ति से सामना हुआ तो अवश्य ही मानव अपना सीना तान के कहेगा ” देखा मैं सर्वश्रेष्ठ रचनाकार हूँ , दम है तो बाहर निकल और मेरा सामना कर ” और उस समय लगता है ईश्वर भी हाथ जोड़ अपनी ही देN मानव के सामने गिडगिडा रहा होगा-” माफ़ करदो मुझे , तुम्हारे जैसी समझ और सोच के आगे मैं नतमस्तक हूँ और मैं अपनी हार स्वीकार करता हूँ ”




अपने आस-पास राह चलते आजकल अकसर ऐसी प्रजाति के जानवरो से सामना हो जाता है और हम उनकी मानसिकता को समझ ही नही पाते । न जाने क्यो लालच ने हमें इतना अन्धा बना दिया है कि हम हर मर्यादा , हर संस्कार , हर आदर को भूल जाते हैं । क्यों हमारे कोई सामाजिक मूल्य ही नहीं रह गए । अभी पिछले हफ़्ते की ही बात है कि हम वीकेण्ड में घूमने-फ़िरने के मूड में सुबह घर से निकले । पैट्रोल बंक पर लाईन में लगे हुए थे कि पीछे से आकर किसी नें इतनी जबर्दस्त टक्कर मारी कि हम लोग बाल-बाल बचे । खडी गाडी में ऐसे हुआ तो अगर चलती गाडी में ऐसा होता तो न जाने हमारी क्या हालत होती । बस गाडी से बाहर निकलते ही उसने क्षमा याचना की और रिपेयर का फ़ुल खर्च देने की बात कहकर हमें पुलिस में न जाने के लिए उसनें मना ही लिया । उसके साथ उसकी मां पत्नी और पांच-छ्ह साल का बेटा भी था । मुझे उसकी मां की शक्ल कुछ जानी पहचानी लगी । थोडा दिमाग पर जोर लगाया तो ध्यान आया कि वह मिसेज़ शान्ति मेरे बेटे के स्कूल ( एयरफ़ोर्स , ए.वी.कैम्प्स , बंगलोर )में प्राएमरी टीचर हैं । हालांकि वो मेरे बेटे को पढाती नहीं हैं और मैनें केवल उनको आते-जाते देखा ही है , फ़िर भी हमनें थोडा नर्म रुख अपनाया । गलती तो गल्ती है चाहे किसी से भी हो और अगर गल्ती हो गई है ( चाहे अनजाने में ही ) उसको मानना तो चाहिए ही । वह भी हमारे साथ सर्विस स्टेशन चलने के लिए तैयार हो गया और अपनी मां और बेटे को घर छोड पत्नी के साथ हमारे साथ गया । बातों बातों में पता चला कि उसकी पत्नी प्रसन्ना प्रकाश डी. पी.एस. ( दिल्ली पब्लिक स्कूल ईस्ट बंगलोर )में टीचर है और स्वयं ए.ओ.एल. कम्पनी में कार्यरत है । मतलब अच्छी खासी आमदन है । जब पता चला कि गाडी की रिपेयर में तकरीबन पंद्रह हज़ार तक का खर्च आएगा तो भी उसनें यही कहा कि आप गाडी ठीक करवाईये मैं खर्च दूंगा , कहकर वह वहां से खिसक लिया । हमें तो अपनी गाडी ठीक करवानी ही थी , सो तीन-चार दिन में गाडी ठीक हो घर आ गई । चूंकि हर गाडी का इन्शोरेंस रहती ही है तो हमें भी अपने पास से ज्यादा खर्च नहीं करने पडे लेकिन उसके लिए जो हम मानसिक तनाव में रहे और बीस किलोमीटर दूर जाने आने में जितना हम खराब हुए उसकी कोई कीमत नहीं है । हमारा पुलिस में न जाना हमारी सबसे बडी भूल थी या फ़िर बच्चे के स्कूल की टीचर को देखकर हमें उसे सम्मान देना ( जिसके काबिल वह नहीं थी ) बडी भूल थी , लेकिन हमनें जो किया अपनी तरफ़ से अच्छा किया और सोच भी लिया कि उससे खर्च अवश्य लेंगे और अपाहिज अनाथ बच्चों के लिए उसे खर्च कर देंगे । लेकिन उन बच्चों की किस्मत में ये नहीं था , उसनें खर्च देने से साफ़ मना कर दिया । यह तर्क देकर कि कानून के अनुसार हर गाडी का बीमा होता है । अब मैं सोचने पर मजबूर थी कि माना हर गाडी का बीमा होता है लेकिन तुम क्या जानवर हो कि कहीं भी किसी भी गाडी को जबरदस्ती टक्कर मारो और तुम्हारे लिए बीमा कम्पनी खर्च उठाएगी और कानूनन तुम्हें कोई सज़ा नहीं मिलेगी , क्योंकि तुम तो हो ही जानवर , जिसे सडकों पर आवारा घूमने की आज़ादी है । उससे भी बढकर मुझे निराशा हुई कि क्या कोई टीचर भी ऐसी हो सकती है ,वो भी डिफ़ेंस के रेपुटिड स्कूल की टीचर , जहां अनुशासन , सभ्याचार और मर्यादा का पाठ पढाया जाता है वो अपने बेटे को अच्छे संस्कार नहीं दे पाई TO वो इतने सारे बच्चों को क्या बनने के लिए ट्रेनिंग दे रही है ? कल को अगर मेरे बेटे की कक्षा में आएगी तो क्या सिखाएगी ?

क्या हम बच्चों को ऐसे हाथों में सौंप सकते हैं ?

क्या अनजाने में ही बच्चों को सामाजिक जानवर बनने की शिक्षा नहीं मिल रही है ?

दुख की बात है कि ऐसे सामाजिक जानव्र रक्तबीज की तरह दिन दौगुने रात चौगुने बढ ही रहे हैं । शायद कभी कोई चण्डी फ़िर से आए और कम से कम भारत भूमि को तो ऐसे सामाजिक जानवरों से बचा ले ।

मै अब भी चाहती हूं कि उसे उसकी गलती की सज़ा न सही बल्कि कुछ बच्चों की भलाई के लिए अपनी गलती का अहसास करना ही चाहिए । क्या आप मुझे सुझाव दे सकते हैं कि मुझे क्या करना चाहिए ऐसे घूमते फ़िरते आवारा सामाजिक जानवर के साथ ?

उसका पता और मोबाईल नम्बर है-



PRAKASH



House no. – 38



Munniakollala – Near last bus stop



MARATHALLI -post



BANGALORE- 560037



MOB. NO. – 9980655772



Gaadi no.- KA 03 MK 9217