मेरी आवाज मे आपका स्वागत है |दीजिए मेरी आवाज को अपनी आवाज |

Website templates

05/01/2009

जब चेहरे से नकाब हटाया मैने

जब चेहरे से नकाब हटाया मैने

कहते हैं चेहरा दिल की जुबान होता है
दिख जाता है चेहरे पर
जो दिल मे तूफान होता है
एक तूफान के बवंडर को छुपा लिया मैने
अपने चेहरे पे एक नया चेहरा लगा लिया मैने
फिर तूफान पे तूफान आए
मैने भी चेहरे पे चेहरे लगाए
दिखने मे खूबसूरत थे
किसी की खातिर मेरी जरूरत थे
बाहरी खूबसूरती के सम्मुख
असली खूबसूरती बेमानी थी
किसी ने भी वो खूबसूरती
नही पहचानी थी
मै घिरती गई
चेहरों के चक्रवात मे
जो दिखाए थे मैने
किसी को सौगात मे
पर भूला नहीं मुझे
अपना असली रूप
जो सबके लिए खूबसूरत थे
वही चेहरे मुझे लगते थे कुरूप
पर क्या करती मजबूरी थी
चेहरे पे मुस्कान जो जरूरी थी
जिनको हालात की खातिर ओढा था मैने
जिनके कारण वास्तविक्ता को छोडा था मैने
जिनको मैने अपनी शक्ति बनाया था
अपनो की मुस्कान हेतु जिनको अपनाया था
वही चेहरे बन बैठे मेरी कमजोरी
और दिखाने लगे सीना जोरी
हर पल मेरे सम्मुख आते
बात-बात पर
मेरी मजबूरी का अहसास कराते
रह जाती मै आंसू पीकर
क्या करना इन चेहरों संग जीकर
डरती थी , चेहरे हटाऊंगी
तो किसी अपने को ही रुलाऊंगी
अपनों की नम आँखें
नहीं देख पाऊंगी
पर आज सहनशीलता छूट गई
चेहरों की दीवार से
एक ईंट टूट गई
हृदय मे एक झरोखा बन आया
मैने एक नकाब हटाया
जो पर्दे मे कैद थीं
वो आँखें खोल दी
मानस पटल पर दबी हुई
कुछ बातें बोल दीं
थोडा ही सही
पर अजीब सा सुकून पाया मैने
जब एक चेहरे से नकाब हटाया मैने

6 टिप्‍पणियां:

Shamikh Faraz ने कहा…

Sima ji aapki kavita kafi achhi lagi mujhe. sath hi sath lagaya gaya chitra bhi kafi sundar hai.

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर और गहरे भाव..प्रवाह भी उम्दा है. नियमित लिखें-शुभकामनाऐं.

MUFLIS ने कहा…

bahot achhi kavita hai...
shabd poore manobhaav ko samjha paane mei sakhsham bn parhe haiN.
badhaaee svikaareiN.
देहरादून से छपने वाली पत्रिका "सरस्वती-सुमन" का ग़ज़ल विशेषांक आया है .
आपकी पारखी नजरों से गुज़र जाए तो उसके वक़ार में इज़ाफा हो..
पता है : डॉ आनंद सुमन सिंह, मुख्या सम्पादक ,
सरस्वती सुमन , १-छिबर मार्ग , आर्य नगर , देहरादून .
फ़ोन : ०९४१२० ०९००० .

अक्षय-मन ने कहा…

चेहरों की दीवार से
एक ईंट टूट गई
हृदय मे एक झरोखा बन आया
मैने एक नकाब हटाया
जो पर्दे मे कैद थीं
वो आँखें खोल दी
मानस पटल पर दबी हुई
कुछ बातें बोल दीं
थोडा ही सही
पर अजीब सा सुकून पाया मैने
जब एक चेहरे से नकाब हटाया मैने
वैसे पूरी रचना भावपूर्ण है लेकिन ये पंक्तियाँ कुछ ज्यादा ही गहराई लिए हुए हैं ....
बहुत बहुत बहुत ही अच्छा लिखा है...
मार्मिक रचना....


अक्षय-मन

बवाल ने कहा…

एक सुन्दर कविता जो यथार्थ का सजीव चित्रण है.
बधाई.

materials ने कहा…

I will pass on your article introduced to my other friends, because really good!
wholesale jewelry